Saturday, January 9, 2010

संघर्ष

आओ करे स्वागत हम हर संघर्ष का
प्रगती का मनन, है विषय यह अति हर्ष का

आओ करे स्वागत हम हर संघर्ष का .....

राहों को दिशा प्रदान करना भी कर्मो पर क़र्ज़ है
किंतु कर्मशील बने रहना ही तो जीवन का फ़र्ज़ है

तो क्यों ना इतिहास रचे मिलकर
हम एक नए उत्कर्ष का

आओ करे स्वागत हम हर संघर्ष का........

जो शंकाओ से घिरी रहे, वह चाह सफल नहीं होती
किंतु मेहनत और लगन से जुडी, कोई राह विफल नहीं होती

मुश्किलों में भी बढ़ाते ही रहे सदा
न इंतज़ार करे किसी निष्कर्ष का

आओ करे स्वागत हम हर संघर्ष का.....

उलझनों की युक्तियाँ, निराशा के पार होती है
संघर्ष में भी हंसी, सफलता का सार होती है

स्वाभिमान हो बुलंद सदा
है इलाज यही हर मर्ज़ का

आओ करे स्वागत हम हर संघर्ष का.......

ना तो ऐसा है की, खुद पर भरोसा नहीं है
और ना ही जहाँ में, मंजिलो की कमी है

उम्मीदों से हकीकतो, को तौल कर देखे
नाकि मार्ग चुने कभी, प्रतिकर्ष का

आओ करे स्वागत हम हर संघर्ष का...

2 comments:

ankit said...

its good i like it

yogendra said...

i am waiting for this to listen from you since last 4 years.after 4 years i got a chance to read it now tell when i am going to listen it.