Monday, March 1, 2010

तेरे चहरे में उस खुदा की इबारत नज़र आती है

मेरी नन्ही परी अनुष्का


लोग कहते हैं कि गुज़रा ज़माना कभी लौट कर आता नहीं
लेकिन तेरी हर शरारत में अपना बचपन मैं जिया करती हूँ

यूँ तो कर देते हैं बैचेन छुपे हुए कुछ गम जो यादों में मेरी
पर तेरी नटखट सी हँसी इस जीवन में सुकून भर देती हैं

ना देखा हैं कभी भी कही उस खुदा का चहरा मैंने
तेरे चहरे में उस खुदा की इबारत ही नज़र आती हैं

इक पल में ही पा लेती हूँ ज़मीं पर ज़न्नत की ख़ुशी
जब तेरी नाज़ुक उंगलियाँ मेरे गालों को सहलाती हैं

जब भी तेरे नन्हे कदम मेरे आँगन में थिरक उठते हैं
झरने लगते हैं फूल कई और हवाएं भी गुनगुनाती हैं

चहक उठती हूँ मैं मिल जाता हैं करार दिल को
जो तू आकर अचानक मेरे सीने से लिपट जाती हैं

ऐसा लगता हैं जैसे "खुदा का नूर" मुझमे आ समाया हैं
जब तू अपने कोमल लबों से मुझे "माँ" कह कर बुलाती हैं

अनुष्का के साथ प्यार भरे पल

40 comments:

Sanjay Kumar Chourasia said...
This comment has been removed by the author.
दीपक 'मशाल' said...

क्यों झूठ बोलती हैं आप.. ये भी कोई परी है??? ये तो परियों की राजकुमारी लगती है.. :) सुन्दर रचना..

Udan Tashtari said...

बहुत प्यारी बच्ची है...और गीत भी बहुत सुन्दर.

अनुष्का को ढेर आशीष और आपको बधाई.

Vivek Rastogi said...

बिल्कुल सही बच्चों के साथ अपना बचपन वापिस आ जाता है, हम अपना बचपन भूल जाते हैं पर उनके साथ वापिस वही दौर जी लेते हैं।

अनुष्का बिटिया को बहुत सारा प्यार !!

ललित शर्मा said...

जब भी तेरे नन्हे कदम मेरे आँगन में थिरक उठते हैं
झरने लगते हैं फूल कई और हवाएं भी गुनगुनाती हैं,

बेटी आंगन की गौरया है, जो दिन भर इधर-उधर फ़ुदकते रहती है,

सुंदर काव्य
होली की शुभकामनाएं
आभार

डॉ. मनोज मिश्र said...

लोग कहते हैं कि गुज़रा ज़माना कभी लौट कर आता नहीं
लेकिन तेरी हर शरारत में अपना बचपन मैं जिया करती हूँ...
बेहद खूब सूरत और यथार्थ परक रचना.
बिटिया को नजर न लगेबहुत प्यारी है.

राजीव तनेजा said...

अनुष्का को ढेर सारा प्यार ...
सुन्दर रचना

M VERMA said...

इक पल में ही पा लेती हूँ ज़मीं पर ज़न्नत की ख़ुशी
जब तेरी नाज़ुक उंगलियाँ मेरे गालों को सहलाती हैं
परी सी प्यारी बिटिया की सहलाहट जन्नत की खुशी ही तो देगी

बिटिया को प्यार

sangeeta swarup said...

ममत्व की कोमल भावनाओं से संवारी प्यारी सी रचना....मन को सुकून देने वाली प्यारी अनुष्का को शुभकामनायें और आशीर्वाद

Kishore Choudhary said...

बहुत स्वीट
अनगिनत शुभकामनाएं परी को और आपके शब्द तो हैं ही खास.

योगेश स्वप्न said...

aapko ishwar ki sarvottam bhent, geet sundertam.

निर्मला कपिला said...

चहक उठती हूँ मैं मिल जाता हैं करार दिल को
जो तू आकर अचानक मेरे सीने से लिपट जाती हैं
शायद ये दुनिया की सब से बडी खुशी है जिस का आनन्द लेने का सौभाग्य केवल माँ को मिला है। और आपकी इस सुन्दर परी को बहुत बहुत आशीर्वाद। बहुत अच्छी लगी ये कविता। शुभकामनायें

सुरेन्द्र "मुल्हिद" said...

namaskaar ji,
shastri ji ke zariya aapke blog par aana hua....
kehne ka dill kar raha hai ki pariyon ki raajkumaari aapke paas hai aur saath he aapne jo varnan kiya hai geet roopi, ati uttam.

bahut he badhiya...

cheers!
surender
http://shayarichawla.blogspot.com/

देवेश प्रताप said...

bahut bahut sweet bachhi hai .....anushka ko dher sara pyar ......deepak bahi ne sahi kaha ye to paryion ki raaj kumari hai ..........

Mithilesh dubey said...

दीदी स में अनुष्का तो परी है है , जितनी सुन्दर ये दिख रही है उतनी अच्छी ये बात भी करती है, अभ कल ही जब मैंने इससे बात की तो जैसे मुझे मामा बोली बहुत ही अच्छा लगा , अनुष्का को उज्वल भविष्य की शुभकामाएं ।

amritwani.com said...

बहुत सुन्दर रचना हे ये ||
\

आखिर बेटियां होती भी पारी ही हे ये बात आप ने अपनी कलम से सिद्ध कर दी

शेखर 'कुमावत'

संजय भास्कर said...

अनुष्का को ढेर सारा प्यार ...
सुन्दर रचना

संजय भास्कर said...

अनुष्का को उज्वल भविष्य की शुभकामाएं ।

makrand said...

child looks is pleasure as we never know the facw of god

makrand said...

child looks is pleasure as we never know the face of god

Amitraghat said...

"किसी ने सही ही कहा था कि इस दुनिया में केवल तीन चीज़े दिलचस्प होती हैं संत,चिड़िया और बच्चे.."
प्रणव सक्सैना
amitraghat.blogspot.com

Manish said...

बहुत प्यारी बच्ची है.. कविता भी अच्छी है…
:) :)

Arvind Mishra said...

बड़ी प्यारी सी है अनुष्का स्नेहाशीष!

अनामिका की सदाये...... said...

maa ke dil k komal ehsas badi pakeezgi se rachna me dhal gaye hai..
aap aur apki beti sada inhi ehsaso se sukoon paye. badhayi.

Mrs. Asha Joglekar said...

मां के दिल की बात आपने बहुत खूबसूरती से रखी । अनुष्का है ही इतनी प्यारी .

Arshad Ali said...

अनुष्का ने सभी का मन मोह लिया
मुझे उसे गुदगुदी करने का मन कर रहा है
आपका पोस्ट आपके ममता की तश्वीर बना रहा है बेशक माँ बच्चों की भगवान होती है ...

अनुष्का बाबा को बहुत सा प्यार दुलार

डॉ टी एस दराल said...

बहुत प्यारी बिटिया है , अनुष्का ।
उतना ही प्यारा ममता भर गीत लिखा है आपने ।
बिटिया को ढेर सारा प्यार।
होली की हार्दिक शुभकामनायें।

हरकीरत ' हीर' said...

इस नूर परी को ढेरों प्यार .....!!

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत सुंदर गीत, मां बिटिया दोनो ही प्यारी सी गुडियायें लग रही है. बहुत आशीष प्यार.

रामराम.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

सुन्दर गीत के लिए बधाई!
अनुष्का जी को शुभाशीष!

गिरीश बिल्लोरे मुकुल अब पॉडकास्टर said...

kuchi kuchi anusha

AKHRAN DA VANZARA said...

बहुत प्यारी कविता ...
कोमल एह्सास से भरी

फूल से चेहरे वाली गुडिया को प्यार ...


---- राकेश वर्मा

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' said...

रानी विशाल साहिबा, आदाब
मासूम...फ़रिश्ते जैसी बिटिया..और इसके लिये आपकी ममतामयी रचना...इस मुकाम पर शब्द बहुत छोटे होंगे...चाहे जो भी कहा जाये..कम होगा.
...... तेरी हर शरारत में अपना बचपन मैं जिया करती हूँ

इक पल में ही पा लेती हूँ ज़मीं पर ज़न्नत की ख़ुशी
जब तेरी नाज़ुक उंगलियाँ मेरे गालों को सहलाती हैं

वो गीत याद आ गया-
तेरे रूप में मिल जायेगा...मुझको???
बचपन....हां...ये ठीक रहेगा... भावनाओं के लिये.

venus kesari said...

बहुत खूब

JHAROKHA said...

aapki yah post mujhe apki saari postoon se bahut hi achhi lagi kyon ki mein bhi do pyari si betiyon ki maan hun.apaki yah kavita is jivan ke sabase pavitra rishte kigaharai ko achharshh ujagar karati hai .hamaaripyari,gudiya anushka ko bahut sa pyar.
poonam

यशवन्त मेहता "फ़कीरा" said...

MERE GHAR AYI EK NANHI PARI....
BHAI BADI PYARI BACHI HEI....KHUDA KA NUR HEI CHERE MEI....BITIYA RANI KO DHER SHARA PYAR AUR ASHIRWAD, FAKIRA KI TARAF SE....

वाणी गीत said...

अनुष्का सच ही परी ही है ...
ये नन्ही परियां जीवन में कितने खुशिया लाती हैं ...ईश्वर का दिया सर्वोत्तम उपहार ...

इस प्यारी सी बिटिया को बहुत दुलार और उससे मिलवाने के लिए आपका आभार ...

कविता को तो भूल ही गयी मैं ...जिस कविता में परियों का जिक्र हो ...उसका बयान क्या करना ...!!

महफूज़ अली said...

बहुत सुंदर फोटोस के साथ .सुंदर रचना.... बिटिया बहुत सुंदर है.... बिलकुल आप पर गई है..... बिटिया को ढेर सारा प्यार...

Apanatva said...

Bahut pyaree peree aur utanee hee pyaree rachana.......aur sabse pyaree inkee muskurahat.............
sabhee man ko bhaya.......aabhar......

संजय भास्कर said...

मां के दिल की बात आपने बहुत खूबसूरती से रखी । अनुष्का है ही इतनी प्यारी .